सुचना: प्रिय मैथिल बंधूगन, किछ मैथिल बंधू द्वारा सोसिअल नेटवर्क (फेसबुक) पर एक चर्चा उठाओल गेल " यो मैथिल बंधूगन कहिया ई दहेजक महा जालसँ मिथिला मुक्त हेत ?" जकरा मैथिल बंधुगणक बहुत प्रतिसाद मिलल! तहीं सँ प्रेरीत भs कs आय इ जालवृतक निर्माण कएल गेल अछि! सभ मैथिल बंधू सँ अनुरोध अछि, जे इ जालवृत में जोर - शोर सँ भागली, आ सभ मिल सपथ ली जे बिना इ प्रथा के भगेना हम सभ दम नै लेब! जय मैथिली, जय मिथिला,जय मिथिलांचल!
नोट: यो मैथिल बंधुगन आओ सभ मिल एहि मंच पर चर्चा करी जे इ महाजाल सँ मिथिला कोना मुक्त हेत! जागु मैथिल जागु.. अपन विचार - विमर्श एहि जालवृत पर प्रकट करू! संगे हम सभ मैथिल नवयुवक आ नवयुवती सँ अनुरोध करब, जे अहि सबहक प्रयास एहि आन्दोलन के सफलता प्रदान करत! ताहीं लेल अपने सभ सबसँ आगा आओ आ अपन - अपन विचार - विमर्श एहि जालवृत पर राखू....

सोमवार, 25 जून 2012

सौराठ सभा : गौरवशाली अतीत, धुंधला वर्तमान



Jun 24, 08:45 pm
फोटो- 24 एमडीबी 1
फ्लैग : कभी जूटते थे लाखों सभैती, कन्या को देखे बिना तय हो जाती थी शादी

सुनील कुमार मिश्र, मधुबनी, निज संवाददाता : विश्व में शादी के लिए इच्छुक वर की सभा लगने का एक मात्र उदाहरण सौराठ सभा है। आषाढ़ के अंतिम शुद्ध में लगने वाली इस सभा में प्रतिवर्ष लाखों ब्राह्माण यहां पहुंच कर वर व वधू का वैवाहिक संबंध तय करते थे। मैथिल ब्राह्माणों के विषय में एक कहावत प्रसिद्ध है कि चट मंगनी पट ब्याह। सो, इस समाज में शादी तय होने के साथ वर व बराती कन्या वाले के यहां पहुंच कर शादी की रस्म पूरी कर लेते थे। बिना किसी आडंबर के शादी करने की परंपरा यहां स्पष्ट थी। लेकिन धीरे धीरे दहेज लोभियों के कारण इस अनमोल परंपरा को ठेस पहुंचने लगी और घर कथा को बढ़ावा मिलने लगा। फिलहाल सभा के उस अस्तित्व को पुनस्र्थापित करने का असफल प्रयास मैथिल ब्राह्माणों द्वारा किया जाने लगा है।
गौरवशाली अतीत
प्रारंभ में सभा का रूप अलग था। यहां देश के कोने कोने से मैथिल ब्राह्माण विद्वान जमा होते थे। उनमें शास्त्रार्थ भी चलता था। इन विद्वत मंडली के साथ युवा शिष्य भी आते थे। वहीं दूर दूर के लोग शास्त्रार्थ सुनने व देखने आते थे और कन्या के लिए उपयुक्त वर चुनते थे। इस तरह खास वैवाहिक लग्न पर वहां विद्वानों की टोली व वर को चुनने के लिए कन्या के अभिभावकों के आने की परंपरा बन गई। इससे वर के चुनाव में दर-दर भटकने के श्रम व अन्य व्यय से मैथिल ब्राह्माणों को राहत मिलती थी। वर कन्या विवाह के लिए अधिकार का प्रमाण पत्र तद्विषयक ज्ञाता के रहने से मिल जाता था।
राजा ने दिया 25 बीघा
चौदहवीं सदी के दूसरे दशक तक वर्तमान पंजी प्रथा का प्रचलन नहीं हुआ था, छिटपुट रूप से वंश परिचय लोग रखते थे। उस आधार पर वैवाहिक अधिकार का निर्णय स्मरण के आधार पर करते थे और इस प्रकार यहां वर का चुनाव होता था। ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार महाराज माधव सिंह के राज्यारोहण के समय तक सभा अव्यवस्थित थी। पूर्व में परतापुर व समौल सहित अन्य स्थानों पर सभा लगने का प्रमाण है। राजा माधव सिंह के राजत्व काल से प्रारंभ सौराठ सभा को व्यवस्थित किया गया। राजा ने सभा के लिए 25 बीघे का भूखंड दिए।
अनोखी शादी
मैथिल ब्राह्माणों की शादी की परंपरा अनोखी है। सभा के दौरान कन्या की कब शादी हो जाएगी, पता नहीं रहता।
पाग में आते थे वर
सभा में जाकर वहां से शादी रचाकर घर आना काफी रोमांचित करता था। वर घर से लाल धोती, कुर्ता व ललका पाग धारण कर महिलाओं द्वार चुमावन करने के बाद सभा के लिए प्रस्थान करते थे। वहां वे निर्धारित स्थान पर दरी बिछाकर अपने अंिभभावकों के साथ बैठते थे। जहां कन्या पक्ष के लोग समकुल वर का चयन कर शादी तय करते थे।
बदहाली का दौर
अस्सी के दशक में सौराठ सभा में विकृतियां आने लगी। चोरी छिपे पैसे लेने का चलन शुरू हुआ। धीरे-धीरे सभा में खुले आम पैसे का लेन देन करने लगे। वर्तमान स्थिति यह है कि गत दस वर्षो से यहां नाम मात्र के लोग आते हैं व यहां की दुर्दशा देख भारी मन लिए वापस हो जाते हैं। यहां सभैती के लिए बनाए गए विशाल तीन शेड जर्जर हो चुके हैं। सभा स्थित माधवेश्वर शिवालय मूक गवाह के रूप में खड़ा है।
ऐसा था अतीत
- कुलशील को दिया जाता था महत्व, शादी में लेन देन की नहीं थी परंपरा
- लाल धोती में वास करते थे वर, पांच से पंद्रह बरात जाने की थी परंपरा
- मध्यम व गरीब ब्राह्माणों के लिए वरदान थी सभा
- मिथिला के विभिन्न भागों से ही नहीं अन्य राज्यों के प्रवासी मैथिल ब्राह्माण भी आते थे
बदहाली के कारण
- दहेज प्रथा ने किया कुठाराधात, पैसे के लोभ ने कुलशील विचारों को हाशिए पर डाला
- नवधनाढ्य ने घर कथा को दिया बढ़ावा, दहेज विरोध लेकर महिला संगठन का सभा में प्रवेश
इनसेट :
सभा के पहले लग्न में एक वर शादी को गए
-चौथे दिन 11 सिद्धांत लिखे गए
फोटो 24 एमडीबी 19 
रहिका (मधुबनी), निज प्रतिनिधि : सौराठ सभा के चौथे दिन जहां कुल 11 सिद्धांत लिखे गए वहीं आज प्रथम लग्न में एक वर यहां से शादी करने के लिए प्रस्थान किए। जानकारी हो कि पंडौल प्रखंड के ब्रह्माोत्तरा गांव निवासी बुद्धिनाथ झा व निर्मला झा के पुत्र मिहिर कुमार झा उर्फ महादेव ने बिना दहेज लिए झंझारपुर के लक्ष्मीपुर निवासी लाल बहादुर मिश्र की पुत्री कल्याणी कुमारी के संग शादी करने को प्रस्थान किया। जानकारी हो कि मिहिर ने बिना दहेज के शादी करने की घोषणा की थी। जिस पर सभावधि में लाल बहादुर मिश्र ने वर को चुना व मिहिर के परिजनों से बातचीत कर शादी तय की। मिहिर को नेपाल के विराट नगर से आए दहेज मुक्त मिथिला के अंतर्राष्ट्रीय सचिव प्रवीण नारायण चौधरी व वहां उपस्थित लोगों ने शादी के लिए विदा किया। इस अवसर पर अंतर्राष्ट्रीय मैथिली परिषद के अध्यक्ष कमला कांत झा, प्रवक्ता धनाकर ठाकुर सहित अन्य सदस्य गण व सौराठ महासभा समिति के सचिव शेखर चंद्र मिश्र भी उपस्थित थे।
dainik  jagaran - 

Read more...

शनिवार, 23 जून 2012


मैथिली - पंचांग  - २०१२-१३ 








































































Read more...

शुक्रवार, 8 जून 2012

गजल@प्रभात राय भट्ट



गजल

अप्टन सुन्दरता के बढ़ा रहल छै
पुष्प दूध सं सुनरी नहा रहल छै

कोमल कोमल देह लागैछै दुधिया
आईख सं बिजुरिया गिरा रहल छै

पैढ़लिय इ सुनारी छै खुला किताब
अंग अंग सुन्दरता देखा रहल छै

पातर पातर ठोर लागै छै शराबी
गाल गुलाबी रस टपका रहल छै

घिचल घिचल नाक चमकै छै दाँत
काजर के धार तीर चला रहल छै

अप्टन लगा गोरी सुनरी लागै छै
मोन मोहि पिया के ललचा रहल छै

दुतिया चान सन चकमक करै छै
ताहि ऊपर श्रृंगार सजा रहल छै

सैज धैज सजनी इन्द्रपरी लागै छै
देख सुनरी के चान लजा रहल छै

-------वर्ण-१४-------
रचनाकार-प्रभात राय भट्ट

Read more...

मंगलवार, 5 जून 2012

गजल@प्रभात राय भट्ट



गजल

मरि रहल छै सीता सन बेट्टी दहेजक खेल में
बेट्टी पुतोहू जरी रहल छै किरोसिन तेल में

बेट्टा के बाप बेचीं रहल छै मालजालक मोल में
बेट्टीबाला के घर घरारी सब लागल छै सेल में

कs देलन घर घरारी दुलहा के नाम नामसारी
बनी गेलाह ओ दाता भिखारी बाप बेट्टा के मेल में

फेर दुलहा मोटर आ गाड़ी लेल कटैय खुर्छारी
कनिया संग आबैय ओ ससुरारी चैढ कS रेल में

नै भेटला सं मोटर गाड़ी कनिया के देलक मारि
दहेजक लोभी ओ बाप बेट्टा चकी पिसैय जेल में

------------वर्ण-१९-----------
रचनाकार-प्रभात राय भट्ट

Read more...

शनिवार, 2 जून 2012

गजल

सब दान सं पैघ दुनिया में कन्यादान छै
धन टाका सं पैघ दुनिया में स्वाभिमान छै

निर्लज मनुख की जाने मान-स्वाभिमान
दहेज़ मांगब याचक केर पहिचान छै

मांगी दहेज़ टाका रुपैया देखबैय शान
बेचदैय बेट्टा के लोक केहन नादान छै

जैइर मरैय बेट्टी दहेजक आईग में
विआहक नाम सुनीते बेट्टी परेशान छै

सपथ लिय बंधू दहेज़ नै लेब नै देब
आदर्श विआह जे करता ओहे महान छै

आब नै बेट्टी मरत नै पुत्रबधू जरत
दहेज़ मुक्त मिथिलाक एही अभियान छै

---------वर्ण-१६-----------
रचनाकार-प्रभात राय भट्ट

Read more...

  © Dahej Mukt Mithila. All rights reserved. Blog Design By: Jitmohan Jha (Jitu)

Back to TOP